त्वचा और चेहरे के उपचार

चेहरे की खूबसूरती बढ़ायें, कील मुहांसे, दाग धब्बे, झाइयां एवं आँखों के नीचे काले घेरे दूर करें लेजर विधि द्वारा

मुँहासे (पिम्पल्स)​

आज की भागदोड भरी जिंदगी और दूषित वातावरण के कारण किशोर अवस्था के लोग किल मुँहासे से काफी परेशान हैं, जबकि किशोर अवस्था में इन किल मुँहासों को कोई भी किशोर पसंद नही करता | अधिकतर लोगो का मानना है की मुँहासे होना एक खास उम्र का असर है और उम्र बढ़ने के साथ साथ मुँहासे भी अपने आप ठीक हो जाते है कुछ हद तक ये बात सच भी है क्योंकी किशोर अवस्था में शरीर में अनेक बदलाव देखने को मिलते हैं और हार्मोन्स का भी स्तर कम ज्यादा होता रहता है मुँहासों के इलाज के लिए आप आयुर्वेदिक या घरेलू उपाय भी प्रयोग में ला सकते हैं |

मुहांसे के प्रकार

1. पसदार मुँहासे- यह छोटे छोटे दानों के रूप में चेहरे पर उभरते हैं | यह लालिमा लिए गाल और नाक पर ज्यादा होते हैं । यह कंधे, पीठ और हाथ पैर को भी प्रभावित कर सकते है।
2. अर्द्धयुक्त- कुछ लोगो में मुँहासे दाने के आकार से बड़े होकर अयुक्त होते है इन मवाद्युक्त गाठों में दर्द, जलन, सूजन और लालिमा पाई जाती है
3. किल मुंहासे- यह उपर से काला और निचे से सफेद होता है | जब हम त्वचा को दबाते हैं तो यह किल के रूप में निकलता है यह जहां से निकलता है वह जगह स्थाई छेद रूप में हो जाती है

मुहांसे के कारण

1.त्वचा के छिद्रों के बंद होने के कारण वसा ग्रन्थियों से निकलने वाले नाव का रुक जाना
2.इस रोग की समस्या कई बार वंशानुगत भी हो सकती है
3. यदि आप को पेट की समस्या है जैसे कब्ज या अन्य कोई समस्या तो भी मुँहासे हो सकते है
4. यह समस्या गलत खान पान के कारण भी हो सकती है
5. चेहरे पर अलग अलग तरह के उपयोग और क्रीम का प्रयोग भी इस समस्या का कारण बनता है
6. धूल, मिट्टी, पसीना और दूषित वातावरण भी इस समस्या का एक कारण है
7. किशोरावस्था में हार्मोन्स परिवर्तन होना भी मुँहासे का कारण हो सकता है

पिगमेंटेशन (झाइयाँ)

पिगमेंटेशन एक ऐसी समस्या है जिसे हर महिला को अपने जीवन में कभी ना कभी जरूर अनुभव करना पड़ता है। हर कोई चाहता है कि उनकी त्वचा बेदाग और खूबसूरत हो, लेकिन ऐसा होता नहीं है। पिगमेंटेशन के कारण त्वचा असमान और भद्दी दिखती है। हालांकि महिलाएं असमान स्किन टोन को कवर करने के लिए बाजार में मौजूद कलर करेक्टर, कंसीलर, फाउंडेशन और बीबी क्रीम का इस्तेमाल करती हैं, लेकिन आप भी इन चीजों को चुनें उससे पहले हम आपको कुछ ऐसे घरेलू उपायों के बारे में बताएंगे,  जिन्हें आजमाकर आप काले दाग धब्बे वाली त्वचा से छुटकारा पा सकती हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार पिगमेंटेशन महिलाओं में होने वाली आम समस्या है, जिससे ज्यादा डरने की जरूरत नहीं है। लेकिन फिर भी पिगमेंटेशन उनके सेल्फ कॉन्फिडेंस और सेल्फ एस्टीम के लिए हानिकारक है। यह एक ऐसी स्थिति है जब त्वचा की रंगत असमान दिखने लगती है। त्वचा पर काले दाग धब्बे या पैचेस आपकी खूबसूरती को खराब करते हैं। पिगमेंटेशन कई कारणों से हो सकता है, लेकिन इसका मुख्य कारण ज्यादा देर तक धूप के संपर्क में आना है और कई बार लर्जी की वजह से भी ऐसा हो जाता है। अगर आप भी पिगमेंटेशन की समस्या से जूझ रही हैं तो हम आपके लिए आपकी इस समस्या का समाधान लेकर आए हैं।

प्रकार

फ्रेकल्स: पिगमेंटेशन का सबसे आम प्रकार ephelides, या freckles है। ये सूरज की रोशनी के बार-बार संपर्क में आने के बाद विकसित होते हैं, खासकर यदि आपका रंग साफ है तो। आनुवंशिकता भी freckling को प्रभावित करती है। 

सोलर लेंटिगाइन: इसे लिवर स्पॉट या सन स्पॉट के रूप में भी जाना जाता है, ये स्पष्ट रूप से परिभाषित पिगमेंटेड स्पॉट होते हैं। वे शरीर पर कहीं भी हो सकते हैं और हल्के भूरे से काले रंग में भिन्न हो सकते हैं। ये धब्बे यूवी सन एक्सपोज़र के कारण होते हैं और यह इस बात पर निर्भर करती है कि ये मेलेनिन पिगमेंट कितना यूवी प्रकाश के संपर्क में आते हैं। इस बात पर खास ध्यान देना जरूरी है क्योंकि ये त्वचा के कैंसर और मेलेनोमा को विकसित कर सकते हैं।

मेलास्मा: मेलास्मा या क्लोस्मा पिग्मेंटेशन है जो त्वचा की डर्मिस में अधिक गहरा होता है। यह चेहरे पर बड़े भूरे रंग के पैच के रूप में दिखाई देता है। इस तरह की रंजकता महिलाओं में अधिक आम है। यह अक्सर हार्मोनल वृद्धि से प्रेरित होता है।

पोस्ट इंफ्लेमेट्री हाइपरपिगमेंटेशन

यह स्थिति त्वचा पर सूजन वाले घाव के बाद उत्पन्न होती है। इससे निशान बन जाता है, जो कि लाल, जामुनी, काला और भूरा हो सकता है।

 

कारण

1 लंबे समय तक कंप्यूटर पर काम करना

2 अनचाहे बाल हटाने वाली क्रीम या वेक्स का इस्तेमाल करने से

3 अधिक समय धूप मे रहना

4 हार्मोन्स में परिवर्तन

5 गर्भावस्था के दौरान

6 आनुवांशिक

अन्य समस्याएँ

झुर्रियां (Wrinkles)

स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks)

टेटू (Tattoo) हटाएँ

तिल (Mole)

मस्से (Warts)

बर्थ मार्क्स

स्किन एलेरजी (Skin allergy)

दाग धब्बे

उपचार

लेज़र थेरेपी

एक्यूपंचर (Accupuncture)

ओज़ोन थेरेपी

स्टीम थेरेपी

हर्बल थेरेपी

7 स्टार थेरेपी

मीज़ो थेरेपी

अल्ट्रासॉनिक (Ultrasonic) थेरेपी

डर्माब्रेज़न (Dermabrasion)/ एक्सफोलिएसन (Exfoliation)

हर्बल पीलिंग (Herbal Peeling)

केमिकल पीलिंग (Chemical Peeling)

फेस लिफ्टिंग (Face lifting)

Close Menu